स्वेछिक संगठन मंथन युवा संस्थान का विकास संचार कार्यकर्म है | हम यह मानते हैं कि बदलते सामाजिक - आर्थिक परिदृश्य मे परंपरागत मूल्य की शाश्वत हैं | सहभागी जनतंत्र ही बदलाव का यथातर्थ हैं और सहभागी जनतंत्र के लिए समाज के सबसे कमजोर तबके का जागरूक और सशक्त होना आवश्यक हैं | संवाद मंथन नये झारखण्ड राज्य मे जमीनी स्तर पर सामाजिक बदलाव के मुद्दों को जनोन्मुखी दृस्टिकोण से जानने - समझने का प्रयाश हैं | यह हाशिये पर धकेल दिए नये बुनियादी मुद्दों पर ध्यानाकर्षण और हस्तछेप की समेकित कोशिश हैं ताकि समानता और लोकतांत्रिक मूल्यों की लड़ाई को गति दी जा सके | हमारी कोशिश हैं कि सामाजिक बदलाव के मुद्दों एवं कार्यकर्ताओ के बीच साझा समझ बने और यह समझ सामुदायिक मीडिया मे रूपांतरित हो | इस अर्थ मे संवाद मंथन सामुदायिक मीडिया की तलाश का एक प्रयोग हैं और जन अभियानों मे मीडिया की सक्रिय भागीदारी का हिस्सा भी |